"class" "div".
"div" "class"=’post-footer-line post-footer-line-1′>
author

This post was written by:

Surendra Singh bhamboo

Get Free Email Updates to your Inbox!
रक्षाबंधन त्यौहार की हार्दिक शुभकामनाएं,बधाईयां    स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं     श्री डेयरी वाला बालाजी मन्दिर के पूर्व पुजारी की पुण्य तिथि पर मूर्ति स्थापना,बगड़    ले ल्यो पट्टी बरतो पढ़णों जरूर है,लक्ष्य का स्कूल    उत्तराखण्ड के कैदारनाथ मन्दिर में फंसे हैं बगड़ के लोग,उन्हे बचायें     सांझ से पहल्या मुछ्यां क मरोङी मार गली के कुत्ते फाङ ले     पैल्या लावणी करस्या,सगळी कुड़गी मालीगांव    ये कैसा मेरे देश का दुर्भाग्य ?? 18 या 16 ??    विद्वान् जन से एक सवाल ?    सभी देसवासियों को वेलेन्टाईन डे की बधाईयां    किसानों की उम्मीद, फसलें लहलाई,मालीगांव,    राजस्थान में बढ़ाई बगड़ नगर की शान,पहचान,मुकेश दाधीच    64वां गणतंत्र दिवस (जय हिन्द, जय हिन्द)    विदेशी सैलानियो के संग मकर संक्रांति की मस्ती,बगड़    पतंग उड़ा रे छौरा पतंग उड़ा , लक्ष्य,मालीगांव    ड ड ड ड ड बावलिया बाबा की संदेश यात्रा,बगड़    ये लो फिर एक नया वर्ष हो मुबारक    इस शताब्दी(सदी) के 12 12 12 को सलाम    दीपावली के कुछ खूबसूरत जगमगाते नजारे,बगड़    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं     धन-तेरस मार्केट सजावट और खरीदारी,बगड़    नवरात्रा प्रारम्भ, घर-घर व मन्दिरों में घट स्थापना,बगड़    कटरा से मां वैष्णो देवी के दरबार तक    वाघा (बाघा) बार्डर परेड,अमृतसर    अमृतसर, स्वर्ण मंदिर दर्शन    घुमंत् फिरत चलो मां वैष्णो देवी के दरबार    अन्दाज अपना-अपना (मानव जाति के शौकीन आधुनिक पूर्वज)    ईद मुबारक-ईद मुबारक    स्वतंत्रता दिवस और भारत देश ??? स्वतंत्रता ???    छोटो सो प्यारो सो म्हारो मदन-गोपाल,जन्माष्टमी     फिर लौटकर आयी किसानो की उम्मीद बारिश,बगड़    रक्षाबंधन की हार्दिक बधाईयां    मायड़ भाषा राजस्थानी री शान बढ़ावण हाळा ब्लॉग    सावन की पहली झमाझम मानसूनी वर्षा    रोज सुबह की मस्ती खरगोश के बच्चों के साथ, लक्ष्य    बगड़ के कुछ धार्मिक, शैक्षिक, दर्शनीय स्थल    चलायें अपनी मर्जी से अपने कम्प्यूटर की विन्डोज    बालाजी के आशीर्वाद के साथ लक्ष्य का दुसरा जन्म दिन    बेचारा जमींदार झेल रहा सर्दी और सरकार की मार    होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं    परण्या नाचण दे फागण मै काळजो बळ बळ गावे रे...    सोनू की जिद और नाहरगढ़ दर्शन,जयपुर    अब डॉट कॉम की जगह डॉट इन    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं    ये काटा वो मारा के साथ बगड़ की मकर-संक्रांति    नव वर्ष 2012 की हार्दिक शुभकामनाएं, मालीगांव    मेरे बाप पहले आप( लक्ष्य का बाल हट )    कड़ाके दार सर्दी घने कोहरे के साथ,मालीगांव    सी.सी. सड़क का लोकार्पण करने पहुचे कांग्रेस राज्य मंत्री, बृजेन्द्र ओला,बगड़    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं,बगड़ बाजार की रौनक के साथ    स्टेज की कला के समतुल्य हैं, सड़क की कला    जहां आज भी लोग समय निकालकर आते हैं, प्रसिद्ध रामलीला, बगड़    झांकी, नाचते- गाते किया विर्षजन,बगड़    जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं    प्यारा सजा है तेरा द्वार भवानी, बगड़    गणेश महोत्सव विसर्जन झांकी के मन मोहक दृश्य पीरामल गेट ,बगड़    एक शाम गणपति बप्पा के नाम पीरामल गेट बगड़    गणेश चतुर्थी महोत्सव शुरू, पीरामल गेट,बगड़    झिरी गांव की कहानी (दास्तां) रमेश फुलवारिया की जुबानी    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं    राखी का त्यौहार भाई बहन का प्यार    याराना यार का .......    किसानों ने उठाया अपना टूल (औजार) मालीगांव    क्या आप अपने कम्प्यूटर में यह कर सकते हैं ?..... कदापि नहीं    बस व स्कॉरपियो की जबरदस्त टक्कर,बगड़    पराक्रमी देशभक्त, शूरवीर, महाराणा प्रताप जयन्ती पर स्पेशल    कई सालों के बाद देखने को मिला ये साजसामान (भाड़ और भड़बुजा)कासिमपुरा, मालीगांव    मजदूर दिवस स्पेशल,बगड़    जाट्यां को ही कोनी मिनखा रो भी जीवणों दुबर होग्यो, कारण यो जीव (लट,कातरो)    दिनभर सड़कें रही सुनसान व दुकाने तरसी ग्राहक को कारण देखिए ?    होली की मस्ती और रंग गुलाल के संग फिर हम कैसे पिछे हटने वाले थे ? लक्ष्य    "हेलो आयो रे बाबा श्याम बुलायो रे" बाबा श्याम की मन मोहक झांकी ,बगड़    वेलेंटाईन्स डे की बधाईयां    खादी का बोलबाला (कर्त्तव्यनिष्ठ, निष्पक्ष, निस्वार्थ भाव से कार्य बनाम तबादला) यह है जनतंत्र    दुनिया में ऐसा भी होता है।    कोहरे के मौसम में , इन्हे भी नहाने के लिए गर्म पानी चाहिए    अब दस को बस 11 का स्वागत    सरसों की फसल और सर्दी परवान पर,मालीगांव    शेखावाटी में होने वाली शादीयों के विचित्र रिवाज    भूखे भक्तों को भगवान , भोजन कब पहुचाओगे    दीपावली की धूम की सजावट का अपना अपना नया अंदाज,बगड़    दीपक का प्रकाश हर पल आपके जीवन में एक नई रोशनी दे    घमसो मैया मन्दिर धौलपुर एक शेषनाग फनी पर्वत और प्राकृतिक झरने का अदभुत दृश्य स्थल    दो दिन से दलदल में फसी गाय को बचाकर हमने पुन्य प्राप्त किया लेकिन नगरपालिका बगड़ लापरवाह    रोडवेज बस चालक की सुजबुझ ने बचाई 30 सवारियों की जान    जितनी लम्बी सौर सुलभ हो उतने ही तो पग फैलाएं ( ज्वलन्त समस्या)    बगड़ की रामलीला का रंगमंच और चलचित्र    प्रसिद्ध हैं बगड़ की रामलीला, इसे देखकर क्या कहें?    मां भवानी के दरबार बगड़ में हुई आरती के विडियों और झुमते भक्त जन    जहां आकर मन को शान्ति मिले ,दुर्गाष्टमी पर बगड़ में सजा मां दुर्गे का दरबार    दिन दिन गिरता जा रहा शिक्षा का स्तर    कोई बड़ी बात नहीं है, भारत में    कभी फुरसत हो तो जगदम्बे निर्धन के घर भी आ जाना    जय मां नवदुर्गा सारा जग तेरे सहारे,तुझे मां मां पुकारे    चूहों की कुछ अनदेखी तस्वीरें.. फोटोग्राफर जीन लुइस क्लेन और मेरी हुबर्ट    ये लो आप भी हंस दिये, हंसो .. हंसो .. हसंना अच्छी बात है।    विचित्र प्रकार के हवा में उडने वाले सांप,हरे रंग के सांप    श्राद्ध पक्ष (पितृ पक्ष में क्यों की जाती है, कौवे की मनुहार और आवभगत) ?    किसानों की उम्मीद पर फिरा पानी    बाजरे का एक पौधा जिसके 35 सिट्टे    प्राकृतिक छटाएं (दृश्य) जो मन को मोह ले    रंगारंग सांस्कृतिक भजन संध्या जिसने सबका मन मोह लिया    मन मोहक नजारा श्री गणेश चतुर्थी उत्सव पर सजाई गई मूर्तियां    गणपति बप्पा मौरया अबके बरस तूं जल्दी आ    ईद की शुभकामनाएं    रेगिस्तान का जहाज एक नये अंदाज में    जन्माष्टमी की हार्दिक बधाईयां    मेरे नये एगरीगेटर पर आपका स्वागत है।    अजब -गजब की चिज है स्वाद बेमिसाल    चुनाव परिणाम    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ    हर्ष उल्लास का पर्व तीज    चुनावी सरगम    मित्रता दिवस स्पेशल    सावन आया झुम के    पळका    चित्रकारी और शिल्प कला,का बेजोड़ नमूना बगड़ का मोती महल    इन दिनों रिज़ल्ट की साइट बन रही है औपरेटिंग सिस्टम और यूजर की जान का फंदा    अनूठी दुनियां के अनूठे लोग    क्रिकेट व आधुनिकरण ने ली आंचलिक (ग्रामीण ) खेलों की जान    झुन्झुनूं जिले का गौरव बढ़ाने का जज्बा    कुदरत का कमाल चूहे के कांटेदार बाल    तैन कुण कहवै री काळी,    10 करोड़ कण्ठां रमती मां भाषा राजस्थानी    राजस्थान रोड़वेज की लापरवाही कहें या भूल ?      

Wednesday, June 30, 2010

786 के अंको का अनूठा संग्रह

786 के अंको का अनूठा संग्रह

786 नम्बरों वाले नोटों का संग्रह
                 दुनिया रचने वाले व दुनिया में गुजर बसर करने वालों का शोख भी ला जवाब है। जिस तरह सृष्टि के रचयिता ने 84 लाख भांति भांति के जीव जन्तु,पशु पक्षी,मानव,नदी पहाड़ जंगल आदि की रचना की है। उसी प्रकार दुनिया वालों की शोख भी भिन्न- भिन्न बनाये है। कोई खाने पाने में मस्त है कोई धन कमाने में-जोड़ने में व अपनी मोटर कार,बंगले में मस्त, कोई चोरी जुआ,इश्क़ मुहब्बत में मस्त है। ऐसा ही एक उदाहरण है बगड़ कस्बे में जो झुन्झुनूं जिले से 15 कि.मी पूर्व में पड़ता है  बगड़ कस्बे के मण्ड्रेला रोड़,जाटाबास में रहने वाले रमेश फुलवारिया का है जो एक सरकारी पद पर शिक्षक है।
                 रमे फुलवारिया का शोख कब आदत में बदल गया उन्हें खुद पता नहीं। जब वह छोटा था तब अपनी दादीजी के पास रहकर बगड़ में पढ़ाई करता था उसका बाकी परिवार मुंबई रहता था एक बार उसके पापा मुंबई जा रहे थे। तब उन्होंने उसे एक 10 रुपये का नोट दिया और कहा इस पर खुदा के अंक लिखे  है इसे सम्हाल कर रखना यह मुसीबत में तुम्हारे काम आयेगा इस नोट के अन्तिम अंक 786 थे बड़े ही भोलेपन से रमेश कहते है। हमें तो उस समय कहीं खुदा के अक्सर नजर नहीं आये। जैसा हमारे पापा जी ने कहा हमने मान लिया। हमारे मन में एक बार सवाल भी  उठा की सिर्फ नम्बर ही क्यों लिखते है पुरा नाम क्यों नहीं? मान्यता के मुताबिक जब ‘‘बिस्मिल्लाह अल रहमान अल रहीम’’ लिखते है तो उसका जोड़ 786 होता है। इसलिए ऐसी जगहों पर जैसे घर दप्तर के दरवाजे आदि पर जहां खुदा का नाम लिखना बेअदबी माना जाता है, वहां यहीं अंक 786 लिखा जाता है। बस इसके बाद तो मेरा शोख बढ़ता हुआ कब आदत में बदल गया यह खुद को भी नहीं पता है।
सो रूपये के व अन्य नोटों  जिनके नम्बर 786 है उनका संग्रह
               रमेश फुलवारिया ने बताया कि एक दिन मैं स्कूल गया था पिछे  से मेरी दादीजी ने मेरे इकट्ठे किये गये 786 अंक वाले नोटों से अनजाने में राशन का सामान ले आई और जब मैं दोड़कर राशन की दुकान पर पहुंचा तब तक वो नोट दूसरे ग्राहक को दिये जा चुके थे। तब मुझे बहुत गहरा दुख हुआ और अहसास हुआ कि नोटों को सहेजने के साथ-2 सुरक्षित रखना भी बड़ी जिम्मेदारी है उसके बाद भी फुलवारिया ने हार नहीं मानी तथा इरादे और भी ज्यादा बुलन्द हो गये जो भी नोट हाथ में आता अंको पर नजर पहले जाती और नोटों को सहेजना शुरू कर दिया शुरूआत में तो घर वाले आस पास के लोग और दोस्त इसे इनका पागलपन समझ कर उन पर हंसते थे लेकिन बाद मे वे भी इस तरह के नोट इक्ट्ठा करके उन्हें देने लगे। इस तरह धीरे धीरे उनके पास इन नोटों का संग्रह होने लगा। आज उनके खजाने में 786 अंक के एक,दो,पांच,दस,,बीस,पचास,सौ,पांच सौ,हजार रूपये नोट शामिल है।
बस टिकट व नोटों के संग्रह के साथ रमेश
              फुलवारिया को अब तो नोटों का ही नहीं 786 के अंको वाले रेल टिकट,बस टिकट,रसीद, बिल आदि का भी संग्रह करने लगा है।
               फुलवारिया को किसी विशेष चीजों का संग्रह करने की आदत बचपन से ही थी। वह बचपन में रंग बिरंगे पंख,कांच की गोली, एक ही टाईटल के गाने,बटन,शायरी, विचित्र प्रकार के पत्थर के टुकडों का संग्रह रखता था। 1998 में  अलग जगहों के पहाडों से इकट्ठे किये गये पत्थरों का संग्रह आज भी बी.एल.  सीनियर सैकण्डरी स्कूल की कृषि विज्ञान की प्रयोग शाला में प्रोजेक्ट के रूप में रखे है। जो अन्य विद्यार्थियों को भी ऐसी दुर्लभ वस्तुओं को संग्रहीत करने के प्रेरित करते है।
               मैं और मेरा दोस्त फुलवारिया आप से भी अनुरोध करते हैं अगर आपको भी अगर कोई ऐसी दुर्लभ वस्तु या पुराने सिक्के या कोई विचित्र वस्तु मिले या प्राप्त हो तो उसे सहेजे या हमें हमारे पते पर भिजवा दे। संगह करना एक अच्छी आदत है।
Ramesh Kumar Fulwariya
 रमेश फुलवारिया का परिचय -
 नाम --  रमेश कुमार (अध्यापक)
योग्यता - बी.एस सी., 

एम.एस सी.,एम.ए.,एम.सी.ए.
पी.जी.डी.सी.ए. .पी.जी.डी.सी.ए.,डी.आई.टी.,बी.एड
पदाधिकारी -
1.    कोषाध्यक्ष - मन्दिर स्वामी खेतादास समिति लोहार्गल,जिला झुन्झूनूं
2.    सचिव - मां सरस्वती चिल्ड्रन एकेडमी शिक्षण संस्थान बगड़,

                    जिला झुन्झुनूं
3.    संरक्षक  -  रैगर समाज समिति बगड़,जिला झुन्झुनूं
4.    पूर्व विज्ञान सचिव सेठ मोतीलाल (पी.जी) कॉलेज झुन्झुनूं
         पता - मण्ड्रेला रोड़,जाटाबास,पोस्ट-बगड़
          जिला झुन्झुनूं (राज.)
          मो. 08955263800

             E mail - ramesh_fulwariya@yahoo.com

तूं के बणणो चावै है? 

7 comments:

  1. आपके ब्लोग पर आ कर अच्छा लगा! ब्लोगिग के विशाल परिवार में आपका स्वागत है! अन्य ब्लोग भी पढ़ें और अपनी राय लिखें! हो सके तो follower भी बने! इससे आप ब्लोगिग परिवार के सम्पर्क में रहेगे! अच्छा पढे और अच्छा लिखें! हैप्पी ब्लोगिग!

    ReplyDelete
  2. जिन्दा लोगों की तलाश!
    मर्जी आपकी, आग्रह हमारा!!


    काले अंग्रेजों के विरुद्ध जारी संघर्ष को आगे बढाने के लिये, यह टिप्पणी प्रदर्शित होती रहे, आपका इतना सहयोग मिल सके तो भी कम नहीं होगा।
    =0=0=0=0=0=0=0=0=0=0=0=0=0=0=0=0=

    सच में इस देश को जिन्दा लोगों की तलाश है। सागर की तलाश में हम सिर्फ बूंद मात्र हैं, लेकिन सागर बूंद को नकार नहीं सकता। बूंद के बिना सागर को कोई फर्क नहीं पडता हो, लेकिन बूंद का सागर के बिना कोई अस्तित्व नहीं है। सागर में मिलन की दुरूह राह में आप सहित प्रत्येक संवेदनशील व्यक्ति का सहयोग जरूरी है। यदि यह टिप्पणी प्रदर्शित होगी तो विचार की यात्रा में आप भी सारथी बन जायेंगे।

    हमें ऐसे जिन्दा लोगों की तलाश हैं, जिनके दिल में भगत सिंह जैसा जज्बा तो हो, लेकिन इस जज्बे की आग से अपने आपको जलने से बचाने की समझ भी हो, क्योंकि जोश में भगत सिंह ने यही नासमझी की थी। जिसका दुःख आने वाली पीढियों को सदैव सताता रहेगा। गौरे अंग्रेजों के खिलाफ भगत सिंह, सुभाष चन्द्र बोस, असफाकउल्लाह खाँ, चन्द्र शेखर आजाद जैसे असंख्य आजादी के दीवानों की भांति अलख जगाने वाले समर्पित और जिन्दादिल लोगों की आज के काले अंग्रेजों के आतंक के खिलाफ बुद्धिमतापूर्ण तरीके से लडने हेतु तलाश है।

    इस देश में कानून का संरक्षण प्राप्त गुण्डों का राज कायम हो चुका है। सरकार द्वारा देश का विकास एवं उत्थान करने व जवाबदेह प्रशासनिक ढांचा खडा करने के लिये, हमसे हजारों तरीकों से टेक्स वूसला जाता है, लेकिन राजनेताओं के साथ-साथ अफसरशाही ने इस देश को खोखला और लोकतन्त्र को पंगु बना दिया गया है।

    अफसर, जिन्हें संविधान में लोक सेवक (जनता के नौकर) कहा गया है, हकीकत में जनता के स्वामी बन बैठे हैं। सरकारी धन को डकारना और जनता पर अत्याचार करना इन्होंने कानूनी अधिकार समझ लिया है। कुछ स्वार्थी लोग इनका साथ देकर देश की अस्सी प्रतिशत जनता का कदम-कदम पर शोषण एवं तिरस्कार कर रहे हैं।

    आज देश में भूख, चोरी, डकैती, मिलावट, जासूसी, नक्सलवाद, कालाबाजारी, मंहगाई आदि जो कुछ भी गैर-कानूनी ताण्डव हो रहा है, उसका सबसे बडा कारण है, भ्रष्ट एवं बेलगाम अफसरशाही द्वारा सत्ता का मनमाना दुरुपयोग करके भी कानून के शिकंजे बच निकलना।

    शहीद-ए-आजम भगत सिंह के आदर्शों को सामने रखकर 1993 में स्थापित-भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (बास)-के 17 राज्यों में सेवारत 4300 से अधिक रजिस्टर्ड आजीवन सदस्यों की ओर से दूसरा सवाल-

    सरकारी कुर्सी पर बैठकर, भेदभाव, मनमानी, भ्रष्टाचार, अत्याचार, शोषण और गैर-कानूनी काम करने वाले लोक सेवकों को भारतीय दण्ड विधानों के तहत कठोर सजा नहीं मिलने के कारण आम व्यक्ति की प्रगति में रुकावट एवं देश की एकता, शान्ति, सम्प्रभुता और धर्म-निरपेक्षता को लगातार खतरा पैदा हो रहा है! अब हम स्वयं से पूछें कि-हम हमारे इन नौकरों (लोक सेवकों) को यों हीं कब तक सहते रहेंगे?

    जो भी व्यक्ति इस जनान्दोलन से जुडना चाहें, उसका स्वागत है और निःशुल्क सदस्यता फार्म प्राप्ति हेतु लिखें :-

    (सीधे नहीं जुड़ सकने वाले मित्रजन भ्रष्टाचार एवं अत्याचार से बचाव तथा निवारण हेतु उपयोगी कानूनी जानकारी/सुझाव भेज कर सहयोग कर सकते हैं)

    डॉ. पुरुषोत्तम मीणा
    राष्ट्रीय अध्यक्ष
    भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (बास)
    राष्ट्रीय अध्यक्ष का कार्यालय
    7, तँवर कॉलोनी, खातीपुरा रोड, जयपुर-302006 (राजस्थान)
    फोन : 0141-2222225 (सायं : 7 से 8) मो. 098285-02666
    E-mail : dr.purushottammeena@yahoo.in
    ===================================
    http://baasindia.blogspot.com/
    http://presspalika.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  4. अच्छा लगा आपका ब्लॉग, हिंदी में लेखन के लिए बधाई।
    आपकी रचना से अच्छी जानकारी मिली।
    आपका ब्लॉग जगत में स्वागत है!

    ReplyDelete
  5. आपके ब्लाग पर आकर अच्छा लगा। अपनी लेखनी यूं ही जारी रखें। चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है। हिंदी ब्लागिंग को आप और ऊंचाई तक पहुंचाएं, यही कामना है।
    ब्लागिंग के अलावा आप बिना किसी निवेश के घर बैठे रोज 10-15 मिनट में इंटरनेट के जरिए विज्ञापन और खबरें देख कर तथा रोचक क्विज में भाग लेकर ऊपरी आमदनी भी कर सकते हैं। इच्छा हो तो यहां पधारें-
    http://gharkibaaten.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. इस चिट्ठे के साथ हिंदी चिट्ठा जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  7. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    ReplyDelete

author

This post was written by:

Surendra Singh bhamboo

Get Free Email Updates to your Inbox!